Header Ads

अमेरिका में एक दिन में 1.77 लाख केस, साउथ कोरिया में संक्रमण की तीसरी लहर

दुनिया में कोरोना मरीजों का आंकड़ा शुक्रवार सुबह 5.43 करोड़ के पार हो गया। 3 करोड़ 78 लाख से ज्यादा लोग ठीक हो चुके हैं। अब तक 13 लाख 17 हजार से ज्यादा लोग जान गंवा चुके हैं। ये आंकड़े https://ift.tt/2VnYLis के मुताबिक हैं। अमेरिका में संक्रमण बढ़ता जा रहा है। शुक्रवार और शनिवार के बीच यहां एक लाख 77 हजार मामले सामने आए। दूसरी तरफ प्रेसिडेंट इलेक्ट जो बाइडेन भी एक्टिव हो गए हैं। शनिवार को उन्होंने अपनी कोरोना टास्क फोर्स के साथ मीटिंग की। साउथ कोरिया में संक्रमण की तीसरी लहर सामने आ रही है। यहां फिर तीन अंकों में मामले सामने आने लगे हैं।

अमेरिका में हालात खराब
अमेरिकी अस्पतालों में एक बार फिर मरीजों की तादाद बढ़ने लगी है। शनिवार को यहां एक लाख 77 हजार नए मामले सामने आए। ओरेगन और मिशिगन में संक्रमण बेहद तेजी से फैल रहा है। इसे देखते हुए यहां कुछ प्रतिबंध भी लगाए गए हैं। वैसे कुल मिलाकर 10 राज्य ऐसे हैं जहां संक्रमण का खतरा दूसरे राज्यों के मुकाबले ज्यादा है। दूसरी तरफ, कोविड-19 पर सियासत भी जारी है। चुनाव हारने के बावजूद ट्रम्प एडमिनिस्ट्रेशन महामारी के खतरे को गंभीरता से नहीं ले रही है। वहीं, प्रेसिडेंट इलेक्ट जो बाइडेन इस मामले को लेकर ज्यादा एक्टिव हैं। शनिवार सुबह उन्होंने अपनी कोरोना टास्क फोर्स के साथ मीटिंग की। बाइडेन 20 जनवरी को शपथ लेंगे।

साउथ कोरिया सतर्क
दक्षिण कोरिया की हेल्थ मिनिस्ट्री ने माना है कि देश में संक्रमण की तीसरी लहर सामने आ चुकी है। लगातार आठवें दिन यहां 200 से ज्यादा मामले सामने आए। मिनिस्ट्री द्वारा जारी आंकड़ों में बताया गया है कि शनिवार को कुल 208 केस सामने आए। सरकार ने एक बार फिर संकेत दिए हैं कि वो तीसरी लहर को रोकने के लिए सख्त कदम उठाएगी। जनवरी से मार्च के बीच यहां पहली लहर थी। जून से अगस्त के बीच दूसरी और अब तीसरी लहर है। हालांकि, हेल्थ मिनिस्ट्री ने ये भी कहा है कि संक्रमण की मुख्य वजह विदेश से आने वाले लोग हैं। शनिवार को दर्ज किए गए 208 में से 176 मामले इम्पोर्टेड बताए गए हैं।

शनिवार को दक्षिण कोरिया के सियोल में अपने पपी के साथ एक व्यक्ति। देश में संक्रमण की तीसरी लहर शुरू हो चुकी है। सरकार ने फिर सख्त कदम उठाने की तरफ इशारा किया है।

फ्रांस के अस्पतालों में कम हुए मरीज
फ्रांस में सख्त लॉकडाउन दो हफ्ते बढ़ाने का फैसला किया गया है। अस्पताल में भर्ती होने वाले मरीजों की संख्या भी कम होने लगी है, एक हफ्ते पहले तक यह सरकार के लिए चिंता की सबसे बड़ी वजह थी। हेल्थ एजेंसी ने अपने बयान में कहा- गुरुवार और शुक्रवार के बीच सिर्फ 22 मरीज हॉस्पिटल में भर्ती हुए। इसके एक दिन पहले यानी बुधवार को 726 मरीज अस्पतालों में भर्ती कराए गए थे। फ्रांस में दो हफ्ते पहले एक महीने के लिए लॉकडाउन किया गया था। मियाद खत्म होने के पहले ही इसे दो हफ्ते और बढ़ा दिया गया।

स्पेन में हिंसा जारी
स्पेन में कोरोना की दूसरी लहर शुरू हो चुकी है। इस बीच, सरकार ने कोविड-19 के रोकथाम के लिए कई तरह की प्रतिबंध लगाने शुरू कर दिए हैं। लोग नाराज हैं। लोगों का कहना है कि सरकार जानबूझकर लोगों की आजादी छीनना चाहती है। कई जगह अराजकता का माहौल बन गया है। लोगों ने स्टोर्स लूट डाले। यहां मैड्रिड, लोगोना, मलेगा, सांताडर जैसे कई शहरों में लोगों ने जमकर प्रदर्शन किया। बवाल में कई पुलिसकर्मी घायल हो गए। सरकार ने यहां अमेरिका, ब्रिटेन समेत 65 देशों से पहुंचने वाले लोगों के लिए 72 घंटे पहले की कोविड-19 रिपोर्ट दिखाना अनिवार्य कर दिया है। जिसके पास निगेटिव रिपोर्ट होगी उसे ही स्पेन में एंट्री मिलेगी।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
अमेरिका के नेब्रास्का में शनिवार को कोविड वॉर्ड में जाने से पहले तैयारी करते हेल्थ वर्कर। देश में लगातार आठवें दिन एक लाख से ज्यादा संक्रमण के मामले सामने आए।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3lLaSRf

कोई टिप्पणी नहीं

Blogger द्वारा संचालित.